Our Location
10, Queens Road,Rathore Nagar, Vaishali Nagar, Jaipur, Rajasthan, India 302021

Call Us
(+91) 141 2356122
(+91) 9166 300 200

What is Normal Testosterone Level in Men

पुरुषों में सामान्य टेस्टोस्टेरोन स्तर क्या हैं

आईएसएसएम संचार समिति के चिकित्सा पेशेवरों द्वारा समीक्षित

पुरुषों के शरीर में बनने वाले सेक्स हार्मोन को टेस्टोस्टेरोन कहा जाता है। ये हार्मोन सेक्स ड्राइव बढ़ाने का काम करता है। टेस्टोस्टेरोन की कमी से शरीर में कई तरह के बदलाव आने लगते हैं।

यह एक चुनौतीपूर्ण प्रश्न है कि पुरुषों में सामान्य टेस्टोस्टेरोन स्तर क्या है।क्योंकि पुरुषों के टेस्टोस्टेरोन का स्तर किसी व्यक्ति की उम्र, दिन के समय और यहां तक कि रक्त के नमूने को संसाधित करने वाली प्रयोगशाला के आधार पर भिन्न हो सकता है।

सामान्य तौर पर, एंडोक्राइन सोसाइटी के अनुसार 300 से 1,000 एनजी/डीएल की कुल टेस्टोस्टेरोन रेंज को सामान्य माना जाता है।अमेरिकन यूरोलॉजिकल एसोसिएशन भी कम टेस्टोस्टेरोन (हाइपोगोनाडिज्म) के निदान के लिए अपने कटऑफ पॉइंट के रूप में 300 एनजी/डीएल का उपयोग करता है।

टेस्टोस्टेरोन को एक साधारण रक्त परीक्षण से मापा जाता है। कभी-कभी, सत्यापन के लिए कई परीक्षणों की आवश्यकता होती है।

टेस्टोस्टेरोन को बाध्य या स्वतन्त्र के रूप में वर्गीकृत किया गया है। एक आदमी के टेस्टोस्टेरोन का लगभग 98% हिस्सा बाध्य माना जाता है। यह प्रोटीन से जुड़ा होता है - एल्ब्यूमिन और सेक्स हार्मोन बाइंडिंग ग्लोब्युलिन (SHBG)। ये प्रोटीन शरीर के चारों ओर टेस्टोस्टेरोन के संचरण में मदद करते हैं।  

एक पुरुष का बाकी टेस्टोस्टेरोन स्वतन्त्र या मुक्त होता है। यह किसी अन्य पदार्थ से जुड़ा नहीं होता है।

एक पूरी सही तस्वीर प्राप्त करने के लिए, डॉक्टर आमतौर पर कुल टेस्टोस्टेरोन स्तर निर्धारित करने के लिए स्वतंत्र और बाध्य टेस्टोस्टेरोन दोनों स्तरों पर विचार करते हैं, जो कम टेस्टोस्टेरोन का निदान करते समय व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

टेस्टोस्टेरोन के स्तर का कम होने का संकेत या लक्षण-

  • कमजोरी, ऊर्जा या शक्ति की कमी
  • स्नायु और जोड़ों में दर्द व थकान 
  • वसा या मोटापे में बढ़ोतरी
  • शरीर के बालों पर असर 
  • रात को पसीना या गर्मी ज्यादा महसूस होना
  • हड्डी की घनत्व में कमी के साथ हड्डी का फ्रैक्चर या ऑस्टियोपोरोसिस
  • चिड़चिड़ा या उदास रहना
  • एकाग्रता, याददाश्त की कमी
  • मूड में बदलाव के साथ नींद में कमी
  • मांसपेशियों में बदलाव
  • सेक्स ड्राइव में कमी
  • इरेक्शन में कठिनाई
  • शुक्राणु का कम होना या बांझपन
  • ओर्गेज्म में कठिनाई इत्यादि 

ये लक्षण टेस्टोस्टेरोन स्तर कम होने का संकेत हैं।

टेस्टोस्टेरोन के माप को प्रभावित करने वाले कुछ कारकों में निम्नलिखित शामिल हैं:

 उम्र : एक आदमी के टेस्टोस्टेरोन का स्तर स्वाभाविक रूप से उम्र के साथ कम हो जाता है - 40 साल की उम्र के बाद हर साल लगभग एक प्रतिशत।

समय : टेस्टोस्टेरोन क स्तर सामान्यतयः प्रातः सबसे अधिक होता है, दिन के साथ ये घटता जाता है और नींद के समय इसकी पुनःपूर्ति होती है। डॉक्टर आमतौर पर निरंतरता बनाए रखने के लिए टेस्टोस्टेरोन के स्तर को प्रातः 7 बजे से १० बजे के बीच में मापते हैं खासतौर पर यदि वे तुलना के लिए अलग-अलग समय पर कई माप ले रहे हैं।सुबह में परीक्षण वृद्ध पुरुषों के लिए उतना गंभीर नहीं हो सकता है।शोध बताते हैं कि 45 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों में उतार-चढ़ाव कम दिखाई देते हैं और दोपहर 2 बजे से पहले किसी भी समय परीक्षण स्वीकार्य है।

शारीरिक विकार एवं रोग : दवा के कुछ दुष्प्रभाव जैसे रसायन चिकित्सा, मस्तिष्क में ग्रंथियों की हार्मोन का उत्पादन पर नियंत्रण के साथ कोई परेशानी होना, 30- 40 की उम्र पार करना, अंडकोष में कैंसर होना, मोटापा, अन्य विकार रोग चिकित्सा उपचार या संक्रमण के वजह से टेस्टोस्टेरोन का माप प्रभावित होता है।
साथ ही उच्च रक्तचाप, डायबिटीज, मेटाबॉलिक डिसऑर्डर,थाइरोइड विकार,किडनी की समस्या, सोते समय सांस ठीक से ना ले पाना आदि भी टेस्टोस्टेरोन के स्तर को निर्धारित कर सकते हैं।

प्रयोगशालाएँ: मापन प्रक्रिया हर प्रयोगशाला में भिन्न होती है और कुछ विधियां एवं उपकरण अन्य की तुलना में अधिक सटीक होती हैं।

जब डॉक्टरों को कम टेस्टोस्टेरोन का संदेह होता है, तो वे केवल रक्त परीक्षण के परिणाम ही नहीं, बल्कि कारकों को भी देखते हैं।वे एक पुरुष के समग्र स्वास्थ्य, उसकी उम्र, वजन, ली जाने वाली दवाईओं और स्वास्थ्य स्थितियों पर विचार करते हैं जो टेस्टोस्टेरोन को प्रभावित कर सकते हैं जैसे कि मधुमेह और थायराइड विकार।कम सेक्स ड्राइव, कमजोरी, मनोदशा और मांसपेशियों के नुकसान जैसे लक्षण भी महत्वपूर्ण हैं।

टेस्टोस्टेरोन कम होने पर उपचार के विकल्प- टेस्टोस्टेरोन के कम स्तर को एलोपैथी में टेस्टोस्टरॉन रिप्लेसमेंट थेरेपी द्वारा सही किया जाता है। यह मानव निर्मित टेस्टोस्टेरोन है। यह डॉक्टर द्वारा निर्देशित किए जाने पर है जेल, पंच, इंजेक्शन के रूप में या प्रत्यारोपण से दिया जा सकता है। इसके अलावा अपने वजन पर नियंत्रण रखें, व्यायाम करें, पौष्टिक आहार लें, विटामिन डी की कमी दूर करें, तनाव ना लें, चीनी कम खाएं और जीवन शैली में अन्य जरूरी परिवर्तन अवश्य लाएं।

किसी भी तरह के कोई भी लक्षण दिखने पर अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें और एक स्वस्थ जीवनशैली को अपनाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *